No One Has Ever Become Poor By Giving!

  • Phone:+91 9953659128
  • Email: info@muskanforall.com
Franchise Volunteer Donate Us

भारत में सरकार महिला सशक्तिकरण के लिए किस प्रकार सहायता करती हैं?

bharat me sarkar mahila sasktikaran ke liye kis prakar sahayta karti hai # लड़कियों के प्रति सोच को बदलना #

भारत में सरकार महिला सशक्तिकरण के लिए किस प्रकार सहायता करती हैं?

भारत में सरकार महिला सशक्तिकरण के लिए किस प्रकार सहायता करती हैं?

किसी भी समाज के विकास का सीधा सम्बन्ध उस समाज की महिलाओं से जुड़ा होता हैं! महिलाओं के विकास के बिना समाज में व्यक्ति, परिवार की कल्पना भी नहीं की जा सकती! इसी को ध्यान में रखते हुए महिला सशक्तिकरण के लिए भारत सरकार द्वारा कई योजनाएं चलाई जाती हैं! अधिकतर योजनाएं रोजगार, कृषि और स्वास्थ्य सम्बन्धी जैसी चीजों के लिए चलाई   जाती हैं! यह योजनाएं भारतीय महिलाओं के लिए ही बनाई गयी हैं ताकि समाज में उनकी भागीदारी को बढ़ाया जा सके!

ये योजनाएं इस प्रकार हैं;-

1) बेटीबचाओंबेटीपढ़ाओंयोजना

लड़कियों के अस्तित्व, सरंक्षण और शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए 22 जनवरी 2015 को पानीपत, हरियाणा में इस कार्यक्रम की शुरूआत की गई थी! इस योजना का उद्देश्य कन्या भ्रूण हत्या पर रोक लगाना और कन्याओं को पढ़ाने के लिए लोगो को जागरूक करना हैं! इस योजना के अनुसार लड़का और लड़की में होने वाले भेदभाव को ख़त्म करना और लड़कियों की सुरक्षा, शिक्षा और समाज में इनकी महत्वता को  बढ़ाना हैं!

2)महिला हेल्पलाइन योजना

इस योजना के द्वारा महिलाओं को 24 घंटे की इमरजेंसी सुविधा प्रदान की जाती हैं! इस योजना के तहत पूरे देश में महिलाओं को 181 नंबर की सुविधा दी गयी हैं जिसके अंतर्गत महिलाएं अपने विरुद्ध हो रहे अत्याचार या अपराध की शिकायत इस नंबर पर कर सकते हैं!और उन्हें उसी टाइम सेवाएं प्रदान की जायगी!

3) उज्जवला योजना

यह योजना महिलाओं को यौन शोषण से बचाने के लिए बनाई गयी हैं, और इस योजना के द्वारा महिलाओं के कल्याण और उनके पुनर्वास के लिए भी कार्य किए जाते हैं!

4) सपोर्ट टू ट्रेनिंग एंड एम्प्लॉयमेंट प्रोग्राम फॉर वूमेन (स्टेप)

इस योजना के अनुसार महिलाओं के कौशल को आगे लाने काप्रयास किया जाता हैं ताकि वे भी रोजगार के अवसर प्राप्त कर सके या फिर खुद का कोई रोजगार शुरू कर सके! इसके अंतर्गत कई क्षेत्रों के कार्य जैसे कृषि, सिलाई, बागवानी और मछलीपालन आदि से सम्बंधित विषयों के बारे में महिलाओं को शिक्षित किया जाता हैं! 

5) महिला शक्ति केंद्र

यह योजना के अनुसार सामुदायिक भागीदारी के माध्यम से गांव की महिलाओं को सशक्त बनाना हैं! और उन्हें उनके अधिकारों और कल्याणकारी योजनाओं के बारे में जानकारी भी प्रदान करनी हैं!

6) पंचायाती राज योजनाओं में महिलाओं के लिए आरक्षण

सन्न 2009 में भारत के केंद्रीय मंत्रिमंडल ने पंचायती राज संस्थानों में 50 प्रतिशत महिला आरक्षण की घोषणा की और सरकार के इस कार्य द्वारा गांव के क्षेत्र में  महिलाओं के सामाजिक क्षेत्र को सुधारने के प्रयास किये गए! जिसके द्वारा बिहार, झारखंड, उड़ीसा और आंध्र प्रदेश के साथ -साथ दूसरे अन्य प्रदेशों में भी भारी मात्रा में महिलाएं ग्राम पंचायत अध्यक्ष चुनी गयीं।

7) स्वाधार घर योजना:

इस योजना की शुरुआत 2001-02 में हुई थी और इस योजना को 'महिला एवं बाल विकास मंत्रालय' के माध्यम से चलाया जा रहा है! इस योजना का मुख्य उद्देश्य  विधवाओं,तस्करी से पीड़ित महिलाओं, प्राकृतिक आपदाओं, मानसिक रूप से विकलांग और बेसहारा महिलाओं के पुनर्वास की व्यवस्था करना है। इस योजना के द्वारा विधवा महिलाओं को भोजन और आश्रय, तलाक शुदा महिलाओं को कानूनी परामर्श, चिकित्सा सुविधाओं और महिलाओं को व्यावसायिक प्रशिक्षण जैसी सुविधाएँ प्रदान की जाती हैं|इस योजना के माध्यम से महिलाओं को अपना जीवन फिर से शुरू करने के लिए शारीरिक और मानसिक मजबूती प्रदान की जाती है ताकि वे बिना किसी की मदद के आगे बढ़ सके!

निष्कर्ष

आज भारत सबसे तेजी आर्थिक तरक्की प्राप्त करने वाले देशों में से एक हैं! इसी को ध्यान में रखते हुए भारत को भविष्य में महिला सशक्तिकरण के लक्ष्य को प्राप्त करने में भी ध्यान देना जरूरी हैं! क्योकि महिला सशक्तिकरण के इस कार्य के द्वारा ही देश में लैंगिग समानता और आर्थिक तरक्की को प्राप्त किया जा सकता है जिसमें मुस्कान एनजीओ भी हमारी पूरी तरह से मदद कर रही हैं!