No One Has Ever Become Poor By Giving!

  • Phone:+91 9953659128
  • Email: info@muskanforall.com
Franchise Volunteer Donate Us

KAISE MAHILA SASHAKTIKARAN DAWARA MAHILAYE PURUSHO KE SAMAN HAI

Kaise Mahila Sashaktikaran Dawara Mahilaye Purusho Ke Saman Hai

KAISE MAHILA SASHAKTIKARAN DAWARA MAHILAYE PURUSHO KE SAMAN HAI

कैसे महिला सशक्तिकरण द्वारा महिलाएं पुरुषों के समान हैं!
हमारा भारत देश एक विकासशील देश हैं परन्तु पुरुष प्रधान देश होने के कारण इस देश की आर्थिक स्थिति बहुत ही खराब हैं! आज भी पुरुष अकेले घूमते हैं और महिलाओं को केवल घर के कामों को करने तक सीमित रखा हुआ हैं! उन्हें कभी भी बाहर नहीं ले जाया जाता! परन्तु वे यह नहीं जानते कि इस देश की आधी शक्ति महिलाएं ही है, और पुरुषों के साथ कदम से कदम मिलाकर चलती हैं, और देश की पूरी शक्ति बन जाती हैं! अगर हमारे देश की पूरी शक्ति मिलकर काम करना शुरू कर देगी तो हमारा देश सबसे शक्तिशाली देश होगा और हमारा देश विकासशील देश होगा!

भारत के पुरुषों के लिए महिलाओं की शक्ति को समझना बहुत जरूरी हैं! इसीलिए पुरुषों को उन्हें ये अधिकार देना चाहिए वे स्वयं को आत्मनिर्भर बनाए और देश व परिवार की शक्ति को बनाने के लिए आगे बढ़ने का मौका दे! भारत में महिला सशक्तिकरण लाने का पहला कदम लैंगिक समानता हैं! पुरुषों को यह कभी भी नहीं सोचना चाहोये की महिलायें केवल अपने परिवार और घर के कामकाज तक ही सीमित हैं!  पुरुषों को भी अपने घर, परिवार की जिम्मेदारी उठानी चाहिए और अपने निजी कामों को स्वयं करना चाहिए ताकि महिलाओं को भी अपने खुद के करियर के बारे में सोचने का समय मिल सके! महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए कई नियम बनाए गए है परन्तु कई लोग आज भी इन नियमों का पालन नहीं करते! कुछ ठोस कदम उठाने चाहिए जिनका सभी पालन करें! ये केवल सिर्फ सरकार की ही जिम्मेदारी नहीं हैं बल्कि हम सब भारतियों की भी जिम्मेदारी हैं! प्रत्येक भारतीय को महिलाओं के बारे में अपनी सोच को बदलना चाहिए और महिला सशक्तिकरण के लिए बनाये गए नियमों का पालन करना चाहिए!

सरकार ने महिलाओं के नियम तो बनाये दिए परन्तु समाज को इन्हे समझने की भी जरूरत हैं और इन नियमों का पालन करने की भी जररूत हैं! हमारे देश में महिला सशक्तिकरण की बहुत आवश्यकता हैं क्योकि समाज को सकारात्मक रूप से महिलाओं के बारे में अपनी सोच को बदलने की जरूरत हैं! महिलाओं को भी पुरुषों के जितनी ही पूरी स्वतंत्रता देनी चाहिए क्योकि ये उनका भी जन्मसिद्ध अधिकार है! आज के समय में महिलाएं पुरुषों से बहुत आगे हैं, पुरुषों से ज्यादा शक्तिशाली हैं! वह योग, मानसिक कला, कूगं-फू, कराटे आदि को अपने सुरक्षा मानकों के रुप में सीखकर भी शारीरिक रुप से शक्तिशाली हो सकती हैं।  देश में विकास को आगे बढ़ाने के लिए महिला सशक्तिकरण बहुत महत्वपूर्ण यंत्र है! यह परिवारों और समुदायों के स्वास्थ्य और उत्पादकता में सुधर लाने की कोशिश करते हैं और साथ-साथ अगली पीढ़ी को बेहतर मौके प्रदान करते हैं ताकि गरीबी को जितना हो सके कम किया जा सके!

महिला सशक्तिकरण सामाजिक-आर्थिक विकास के लिए बहुत महत्वपूर्ण है! महिलाओं का सशक्तिकरण आर्थिक वृद्धि को बढ़ाता है और देश के विकास को जारी रखता है। महिलाओं को शुरू से अपने परिवारों और माता-पिता , समाज आदि के द्वारा बहुत अधिक दबाव मिलता है जिसकी वजह से वह अपनी मर्जी का कुछ भी नहीं कर सकती उन्हें सिर्फ अपने परिवार वालों की देखभाल करने के लिए ही मजबूर किया जाता हैं! परिवार और समाज का इस तरह के दबाव के कारण महिलाओं में कैरियर बनाने की महत्वाकांक्षा को पुरुषों की अपेक्षा कम हो जाती है। परन्तु महिला सशक्तिकरण से इन सब में बहुत परिवर्तन आया हैं! महिलाओं भी अब आगे बढ़कर अपने अधिकारों के लिए लड़ने लगी हैं!

निष्कर्ष
मुस्कान एनजीओ भी महिलाओं को सशक्त बनाने में हमारी मदद कर रही हैं! महिला सशक्तिकरण के द्वारा महिलाओं को आगे बढ़ने का मौका मिलने लगा हैं! महिलाएं भी अपने अधिकारों के प्रति सतर्क रहने लगी हैं और उनका पालन करने लगी हैं! इसी प्रकार समाज को भी इन्हे आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए ताकि वे भी आत्मविश्वासी हो सके और खुद बिना कसी की मदद के आगे बढ़ सके!

Enquiry Form