No One Has Ever Become Poor By Giving!

  • Phone:+91 9953659128
  • Email: info@muskanforall.com
Franchise Volunteer Donate Us

KIS PARAKAR KANAYA BHRUN HATAYA KO ROKA JA SAKTA HAI

Kis Parakar Kanaya Bhrun Hataya Ko Roka Ja Sakta Hai

KIS PARAKAR KANAYA BHRUN HATAYA KO ROKA JA SAKTA HAI

किस प्रकार कन्या भ्रूण हत्या को रोका जा सकता हैं!
आधुनिक युग में बहुत अपराध हो रहे है जिनमे से कन्या भ्रूण हत्या भी एक अपराध हैं! इसका मुख्य कारण हैं अपनी इच्छा अनुसार संतान की कामना करना! नई पीढ़ी के लिए शिशु का लिंग परीक्षण कर मनचाही संतान से मुक्ति पा लेना सरल और सुगम हो गया हैं! अधिकतर माता-पिता परीक्षण केंद्र में इसीलिए जाते हैं ताकि वह यह पता लगा सके कि होने वाला लड़का है या लड़की और अगर यह पता चलता हैं कि लड़की है तो वह उसी समय भ्रूण हत्या के लिए तैयार हो जाते हैं! अगर हमारे देश में भ्रूण हत्या को न रोका गया तो हमारे समाज का संतुलन बिगड़ जायगा! इसीलिए हमें इसे रोकने के लिए ठोस कदम उठाने चाहिए नहीं तो हमारा जीवन असुरक्षित हो जायगा!

कन्या भ्रूण हत्या रोकने के उपाय इस प्रकार हैं;-
1)समानदृष्टि
लोगों को लड़का और लड़की को सामान दृष्टि से देखना चाहिए! दोनों में किसी भी तरह का भेदभाव नहीं करना चाहिए! क्योकि आज के समय में तो परिस्थितियाँ बदल गयी हैं! लड़कियां भी लड़कों के साथ हर क्षेत्र में कदम से कदम मिलाकर चलती हैं! दोनों ही अपने माता-पिता की जिम्मेदारी लेने में निपुण हैं! अगर हम सभी मिलकर लड़का और लड़की को समान दृष्टि से देखे तो भी कन्या भ्रूण हत्या में कुछ कमी आ सकती हैं! कन्या भ्रूण हत्या को रोकने का यह हमारा पहला कदम हैं!  

2)
लड़की के जन्म होने पर करें स्वागत :-
लड़की के पैदा होने पर भी वैसी ही बधाई देनी चाहिए जैसे एक लड़के के पैदा होने पर दी जाती हैं! लड़की के पैदा होने पर भी उतनी ही खुशियां मनानी चाहिए क्योकि लड़की तो घर की रौनक होती हैं! लड़की होने पर भी उसका जोरदार खुशियों के साथ स्वागत करना चाहिए ताकि बाकी लोगो को भी प्रेरणा मिल सके! और बाकी लोग भी लड़की का स्वागत उसी धूमधाम के साथ कर सके!

3)
नारी समझे नारी का महत्व :-
अगर एक नारी ही नारी के महत्व को समझने लगे तो भी हम कन्या भ्रूण हत्या पर रोक पा सकते हैं! अगर नारी ही नारी का साथ नहीं देगी तो पुरुषों से क्या उम्मीद लगा सकते हैं! सबसे पहले हमे ही कन्या भ्रूण हत्या को रोकने की कोशिश करनी चाहिए तभी पुरुष भी कन्या भ्रूण हत्या के लिए जागरूक होंगे! 

4)
दहेज प्रथा पर रोक :-
हम सभी को मिलकर दहेज जैसी कुप्रथा को रोकना चाहिए तभी हमारा देश आगे बढ़ पाएगा! दहेज के कारण ही कितने माता-पिता को अपनी लड़की से बिछड़ना पड़ता हैं! लड़कियों को अपनीं जान गवानी पड़ती हैं, क्योकि दहेज एक सामाजिक अपराध हैं! दहेज प्रथा पर कई कानून बनाये गए हैं जिसकी वजह से दहेज प्रथा पर काफी हद तक रोक लगाई गयी हैं!

5)
लिंग परीक्षण ना करवाएं :-
लिंग परीक्षण करवाने पर भी रोक लगानी चाहिए ताकि परिवार में जो भी बच्चा हो उसका ख़ुशी से स्वागत किया जाए! लड़का हो या लड़की दोनों में कोई फर्क ना करे, उन्ही के कारण तो हमारी जिंदगी महकती हैं! जिस तरह लड़का होने पर खुशियां मनाई जाती है वैसे ही लड़की होने पर भी मनाई जानी चाहिए!

6)
सामाजिक सुरक्षा :-
आज के समय में बलात्कार, यौन शोषण आदि जैसी समस्याओं से लड़कियों को जूझना पड़ता है! जिनके चलते माता-पिता व परिवार वाले लड़की पैदा नहीं करने चाहते! क्योकि उन्हें लगता हैं कि लड़की को पालना बहुत मुश्किल हैं! इसीलिए सरकार ने लड़कियों के लिए अलग-अलग कानून बनाये हैं बीएस हमे उन कानूनों पर अमल करने की जरूरत हैं! लड़कियों को सामाजिक सुरक्षा कैसे मिल सके इसके लिए हमे ठोस कदम उठाने चाहिए ताकि लड़कियाँ अपने आप को सुरक्षित महसूस करा सके और उनका आत्मविश्वास बढ़ सके!

7)
शिक्षण-प्रशिक्षण :-
लड़कियों के साथ शिक्षण प्रशिक्षण के क्षेत्र में भेदभाव नहीं करना चाहिए क्योकि आज के समय में लड़कियां हर क्षेत्र में अपनी कामयाबी हासिल कर रही हैं! उन्हें भी अपने हुनर को विकसित करने का एक मौका मिलना चाहिए! लड़कियों के लिए अलग-अलग शिक्षण प्रशिक्षण केंद्र उपलब्ध कराने चाहिए। ताकि वह भी समाज में आगे बढ़ सके!

8)
कानून का हो पालन :-
कन्या भ्रूण हत्या के विरुद्ध हमारी सरकार ने कई कानून बनाये हैं जिस पर हमें बस अमल करना हैं और उन कानूनों और नियमों का सही ढंग से पालन करना जरूरी हैं! लोग कोर्ट कचहरी में जाने से कतराते हैं लेकिन उन्हें विरोधियों के खिलाफ केस दर्ज कराना चाहिए और न्याय पाने के लिए लड़ना चाहिए! कानून हमारे लिए बने हैं, और हमें उनका पालन करना चाहिए और उन्हें समझना चाहिए!

निष्कर्ष
मुस्कान एनजीओ द्वारा लोगो तक यह सन्देश पहुँचाया जाता है कि जो नियम और कानून सरकार द्वारा बनाये गए हैं हमे उनका सही ढंग से पालन करना चाहिए और न्याय पाने के लड़ना चाहिए! जब हम गलत के खिलाफ पहला कदम उठायेंगे तभी धीरे-धीरे बाकी लोग भी इन कानूनों का पालन करेंगे और इसी तरह हम कन्या भ्रूण हत्या पर रोक पा सकते हैं!