A PHP Error was encountered

Severity: Notice

Message: Undefined offset: 0

Filename: views/blog-details.php

Line Number: 12

A PHP Error was encountered

Severity: Notice

Message: Trying to get property of non-object

Filename: views/blog-details.php

Line Number: 12

"/>

A PHP Error was encountered

Severity: Notice

Message: Undefined offset: 0

Filename: views/blog-details.php

Line Number: 13

A PHP Error was encountered

Severity: Notice

Message: Trying to get property of non-object

Filename: views/blog-details.php

Line Number: 13

" />

No One Has Ever Become Poor By Giving!

  • Phone:+91 9953659128
  • Email: info@muskanforall.com
Franchise Volunteer Donate Us

महिला का आर्थिक आत्म निर्भरता में बदलाव

Mahila ka arthik aatam nirbharta me badlav

महिला का आर्थिक आत्म निर्भरता में बदलाव

महिला का आर्थिक आत्म निर्भरता में बदलाव

जैसे-जैसे देश बदल रहा है, महिलाओं की स्थिति में सुधार हो रहा है, समय के साथ महिलाएं और अधिक सशक्त हो रही हैं। परिवर्तन प्रकृति का नियम है, यह सत्य है, लेकिन क्या है और परिवर्तन का परिणाम क्या है और अगली पीढ़ी कैसे परिवर्तन को स्वीकार करती है और क्या सीखती है यह अधिक महत्वपूर्ण है।

हर युग में प्रतिभाशाली महिलाएँ रही हैं और हर युग में उन्होंने अपनी प्रतिभा से समाज में उदाहरण प्रस्तुत किया है, जैसे- सीता, सावित्रि, द्रौपदी, गार्गी आदि पौराणिक देवियों से लेकर रानी दुर्गावती, रानी लक्ष्मीबाई, अहिल्या बाई होल्कर, रानी चेनम्मा, रानी पद्मिनी, हाड़ी रानी आदि। महान रानियों से लेकर इंदिरा गाँधी और किरण बेदी से लेकर सानिया मिर्ज़ा आदि आधुनिक भारत की महिलाओं ने भारत को विश्व भर में गौरवान्वित किया और महिलाओं ने धरती पर ही नहीं अपितु अंतरिक्ष में भी अपना परचम लहराया है।

   यह सच है कि हर उम्र में, महिलाओं ने अपनी क्षमताओं का परीक्षण जीता है, फिर भी यह देखा जाता है कि हर उम्र में उन्हें भेदभाव और उपेक्षा का सामना करना पड़ता है। महिलाओं के प्रति भेदभाव और उपेक्षा को केवल साक्षरता और जागरूकता पैदा कर ही खत्म किया जा सकता है। महिलाओं का विकास देश का विकास है। महिलाओं की साक्षरता, उनकी जागरूकता और उनकी उन्नति ना केवल उनकी गृहस्थी के विकास में सहायक साबित होती है बल्कि उनकी जागरूकता एवं साक्षरता देश के विकास में भी अहम भूमिका निभाती है। इसीलिए सरकार द्वारा आज के युग में महिलाओं की शिक्षा और उनके विकास पर बल दिया जा रहा है, गाँव और शहर में शिक्षा के प्रचार प्रसार के व्यापक प्यास किये जा रहे हैं। महिलाओं को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करना और अन्याय के प्रति आवाज़ उठाने की हिम्मत प्रदान ही असल में नारी सशक्तिकरण है।

महिला सशक्तिकरण की ओर बढ़ते कदम :

हमारे देश में घर की लड़कियों को देवी लक्ष्मी का अवतार माना जाता है परन्तु यदि हम वर्तमान समाज में देखे तो हम पाते है कि ग्रामीण क्षेत्र की महिलाएं आर्थिक रूप से सशक्त नही है, उनको आर्थिक दृष्टि से दूसरों पर निर्भर रहना पड़ता है। महिलाएं आर्थिक रूप से ही नही पर समाजिक और राजनैतिक रूप से भी इतनी सशक्त नही है कि वे स्वंय अपना जीव नयापन कर सके, जो देश के विकास में अवरोध का कार्य कर रहा है। इस अवरोध को दूर करने हेतु हमारी सरकारें व विभिन्न गैर सरकारी संस्थाये कार्य कर रही है, जिसे एक अभियान के रूप में देखा जा रहा है जो महिला सशक्तिकरण के नाम से जाना जा रहा है तथा इसी क्षेत्र में हमारी संस्था समुत्कर्ष युवा विकास नवयुवक मंडल भी विगत कई वर्षों से निरंतर कार्य कर रही है जिसमे पिछले 3 वर्षों से एक अनूठा पहल के माध्यम से इस क्षेत्र में प्रभावी कार्य किया है |

 महिला सशक्तिकरण की प्रक्रिया में समाज को पारंपरिक पितृसतात्मक दृष्टिकोण के प्रति जागरूक किया जाता है जिसने महिलाओं की स्थिति को सदैव कमतर माना है | महिला सशक्तिकरण भौतिक या आध्यात्मिक, शारीरिक या मानसिक सभी स्तर पर महिलाओं में आत्मविश्वास पैदा कर सशक्त बनाने की प्रक्रिया है | मुस्कान एनजीओ द्वारा संदेश दिया जाता है कि महिलाएं आत्मनिर्भर होकर अपने परिवार का पालन-पोषण बेहतर तरीके से कर सकती हैं। शिक्षा और रोज़गार महिलाओं को बेहतर मौके प्रदान कर सकते हैं। महिलाएं आत्मनिर्भर होकर आत्मविश्वास से जिंदगी में हर फैसला लेने के योग्य हो जाती है और अपने घरवालों का हर मुश्किल स्थिति में  समाधान ढूंढने के लिए अग्रसर रहती हैं। अब लोग पहले से ज्यादा जागरूक है और महिलाओं कि मदद करने के लिए आगे आने लगे है। अभी भी इस दिशा में बहुत कुछ किया जाना बाकी है।

Enquiry Form