No One Has Ever Become Poor By Giving!

  • Phone:+91 9953659128
  • Email: info@muskanforall.com
Franchise Volunteer Donate Us

MAHILA SASAKTIKARAN KE LIYE SARKAR KE DWARA KI GAI YOJANAYE

Mahila Sasaktikaran Ke Liye Sarkar Ke Dwara Ki Gai Yojanaye

MAHILA SASAKTIKARAN KE LIYE SARKAR KE DWARA KI GAI YOJANAYE

महिलासशक्तिकरणकेलिएसरकारद्वारादीगईयोजनाएं
किसी भी समाज के विकास का सीधा सम्बन्ध उस समाज की महिलाओं के विकास से जुड़ा होता है | महिलाओं के विकास के बिना व्यक्ति, परिवार और समाज के विकास की कल्पना भी नही की जा सकती है | महिलाओं के विकास के लिए सरकार ने कुछ योजनाओं जैसे बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, उज्ज्वला योजना, सुकन्या समृद्धि योजना और कस्तूरबा गाँधी बालिका विद्यालय योजना आदि की शुरुआत की है |

महिलाकेलिएसरकारकीतरहसेबनाईगईयोजनाएं :
1. बेटीबचाओबेटीपढ़ाओयोजना:
  • बालिकाओं के अस्तित्व, संरक्षण और शिक्षा को बढ़ावा देने के उद्देश्य से 22 जनवरी, 2015 को पानीपत, हरियाणा में इस योजना की शुरूआत की गई थी|
  • इस योजना का उद्देश्य लड़कियों के गिरते लिंगानुपात के मुद्दे के प्रति लोगों को जागरूक करना है|
  • इस कार्यक्रम का समग्र लक्ष्य लिंग के आधार पर लड़का और लड़की में होने वाले भेदभाव को रोकने के साथ साथ प्रत्येक बालिका की सुरक्षा, शिक्षा और समाज में स्वीकृति सुनिश्चित करना है|

2.
लड़कियोंकोसशक्तबनानेकीयोजना
  • केंद्र सरकार द्वारा प्रायोजित कार्यक्रम 1 अप्रैल, 2011 को शुरू किया गया था।
  • द्वितीय। कार्यक्रम महिला और बाल विकास मंत्रालय द्वारा चलाया जा रहा है।
  • इस कार्यक्रम के तहत, 'एकीकृत बाल विकास परियोजना' के तहत, भारत के 200 जिलों से चयनित 11-18 आयु वर्ग की लड़कियों की देखभाल की जा रही है। इस कार्यक्रम के तहत लाभार्थियों को 11-15 और 15-18 वर्ष के दो समूहों में बांटा गया है।
  • इस योजना के तहत मिलने वाले लाभ को दो समूहों में विभाजित किया गया है।

3.
इंदिरागांधीमातृत्वसहयोगयोजना:
  • यह मातृत्व लाभ कार्यक्रम 28 अक्टूबर, 2010 को शुरू किया गया था।
  • इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य गर्भवती और स्तनपान कराने वाली माताओं को 19 वर्ष या उससे अधिक उम्र की पहली दो बच्चों के जन्म तक वित्तीय सहायता प्रदान करना है।
  • इस कार्यक्रम के तहत सरकार द्वारा नवजात शिशु और स्तनपान कराने वाली माताओं की बेहतर देखभाल के लिए दो किस्तों में 6000 रूपये की वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है|
  • यह कार्यक्रम ‘महिला एवं बाल विकास मंत्रालय’ द्वारा चलाया जा रहा है|

4.
कस्तूरबागाँधीबालिकाविद्यालययोजना:
  • यह योजना 2004 में शुरू की गई थी।
  • यह योजना 2004 से सभी अनपढ़ क्षेत्रों में लागू की गई है, जहां ग्रामीण आबादी की साक्षरता दर राष्ट्रीय स्तर से कम है।
  • इस योजना में केंद्र व राज्य सरकारें क्रमशः 75% और 25%  खर्च का योगदान करेंगे |
  • इस योजना का मुख्य लक्ष्य 75% अनुसूचित जाति/जनजाति/अत्यन्त पिछड़ा वर्ग तथा अल्पसंख्यक समुदाय की बालिकाओं तथा 25% गरीबी रेखा से नीचे वाले परिवार की बच्चियों का दाखिला कराना है |
  • योजना में मुख्य रूप से ऐसी बालिकाओं पर ध्यान देना जो विद्यालय से बाहर हैं तथा जिनकी उम्र 10 वर्ष से ऊपर है।

5.
प्रधानमन्त्रीउज्ज्वलायोजना:
  • इस योजना की शुरुआत प्रधामंत्री मोदी द्वारा 1 मई 2016 को की गई थी |
  • इस योजना के अंतर्गत गरीब महिलाओं को मुफ्त एलपीजी गैस कनेक्शन मिलेंगे|
  • योजना का मुख्य उद्देश्य महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देना और उनकी सेहत की सुरक्षा करना है।
  • इस योजना के माध्यम से सरकार ग्रामीण क्षेत्रों में खाना बनाने में इस्तेमाल होने वाले जीवाश्म ईंधन की जगह एलपीजी के उपयोग को बढ़ावा देकर पर्यावरण को स्वच्छ रखने में महिलाओं की भूमिका को बढ़ाना चाहती है |

सारांश
:
इस लिए कहा जाता है कि सरकार द्वारा महिलाओं के उच्च विकास के लिए हर तरह के काफी लम्बे समय से प्रयास करती आ रही है और इसके कारण है कि आज समाज में महिलाओं की भूमिकाओं में बहुत तरह के बदलाव भी दिखायी देने लगे हैं | यह आशा की जाती है कि आगे आने वाले समय में बेटी बचाओ-बेटी पढाओ, आदि कई के सकारात्मक नतीजे सभी के सामने आयेंगे |